Sale!

Original Lal Kitab 1952 (Hard Book)

2,100.00

इंसान बंधा खुद लेख से अपने, लेख बिधाता कलम से हो
कलम चले खुद कर्म पे अपने, झगडा अक्ल न क़िस्मत हो
मुझे आज बहुत बड़ी खुशी का अनुभव हो रहा है कि ज्योतिषगुरु नागपाल जी द्वारा इल्म सामुद्रिक की लाल किताब 1952 का हिंदी लिपियांत्रण करके साल 2015 में डिजिटल रूप में समाज को अर्पित करने का प्रयास किया है । इस महान विद्या से मेरा बहुत पुराना रिश्ता है। ये मेरा सौभाग्य है कि मुझे इस किताब के रचियता पंडित रूप चंद जोशी जी के आशीर्वाद से इसे आमजन तक पहुंचाने का प्रयास किया है।

पंडित जी द्वारा अपने संपूर्ण जीवन में पांच उर्दू ग्रंथ रचे गए। ये पांचों आज के समय में ज़्योतिष समाज के लिए एक प्रकाश स्तम्भ का काम कर रहे हैं। मैं समझता हूं इस पर एक बहुत बड़े शोध कार्य की जरूरत है, और ये शोध कार्य तब ही संभव हो सकता जब ये पांचों ग्रंथ सभी के पास हिंदी भाषा में उपलब्ध हो सकें।

In stock

SKU: JG88293TRS Categories: , Tags: , ,

Description


 

Additional information

Weight 1.750 kg
Dimensions 21 × 11 × 9 cm
Book Name

Original Lal Kitab 1952 (Hard Book) Set of Two

Format

Hard Copy

Language

Hindi

Pages

1173

Author

Jyotishguru Nagpal Ji

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Original Lal Kitab 1952 (Hard Book)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
X