सूरज ख़ाना नंबर 1

     आज फिर से लाल किताब के अनुसार सूरज ख़ाना नंबर 1 के बारे में में थोड़ा सा जानने का प्रयास करते हैं, लाल किताब में पेज नंबर 315 पर सूरज ख़ाना नंबर 1 के बारे में कहा गया है।

धर्मी राजा ख़ुद उम्र सदी का, पांच-पहले घर 11 जो,

शनि कौवा ख़्वाह नेक हो कितना, हड्डी गंदी यज्ञ डालता हो

SUN HOUSE NO 1

     लाल किताब में लिखी गई हर पंक्ति अपना हर शब्द अपना विशेष महत्व रखते हैं। सूरज ख़ाना नंबर 1 में हो तो इन उपरोक्त पंक्तियों का अर्थ क्या है, आज इसी को जानने का प्रयास करेंगे।

     इसी कड़ी में इस पंक्ति में लिखे शब्दों को आसान शब्दों में समझाने का प्रयास किया जा रहा है। इस पंक्तियों में भी एक बहुत बड़ा संदेश दिया गया है।

     अब इस पंक्तियों में जो समझाने का प्रयास किया गया उसे समझने कर प्रयास करते हैं। इस उपरोक्त लाइन में ये समझाने का प्रयास किया गया है कि जिस जातक की जन्म कुंडली में सूरज ख़ाना नंबर 1 में हो तो ऐसा जातक पुराने धार्मिक ख्यालातों को मानने वाला होगा। ऐसा जातक गरीबों की मदद करने वाला भी होता है यानि कि ऐसे जातक के मन गरीबों के प्रति दया भाव भी होता है। ऐसा जातक नेक नियत धर्मात्मा किस्म का व्यक्ति होता है। ऐसा जातक लंबी उम्र का मालिक होगा। ऐसे जातक की जन्म कुंडली में सूरज ख़ाना नंबर एक के वक़्त धर्म-अवस्था के लिए शनि का असर एक चौथाई ही होगा।

    जिस जातक की जन्म कुंडली में सूरज ख़ाना नंबर एक में हो और सूरज उस कुंडली में चाहे कैसा भी उच्च स्थिति में बैठा हो, उसके बारे में लिखा गया है। 

शनि कौवा ख़्वाह नेक हो कितना, हड्डी गंदी यज्ञ डालता हो 

     यानि लाल किताब में शनि को कौए के नाम से संबोधित भी किया गया है, और ये कौवा उस जातक की कुंडली में कितना भी अच्छी अवस्था में बैठा हो लेकिन ये कौवा उस असर में अपनी हड्डी डालता रहेगा यानि कि बुरा असर शामिल करता है रहेगा। लाल किताब ऐसे ही रहस्यमय शब्दों से भरी पड़ी है। फिर मिलेंगे एक नये विषय के साथ।

किसी भी प्रकार की ज्योतिषीय मदद पाने के लिए आप हमारे ज्योतिषगुरु नागपाल जी से संपर्क कर सकते हैं।

error: Content is protected !!
X